Thursday, December 25, 2008

Begam

हुन तो पेके तो आ नि बेगम
आवे सुख दा साह नि बेगम
कल्ले रह-रह थक गया हुन
कपडे धो धो झुक गया हुन
टिंडे ता हुन खावा नि बेगम
हुन तो पेके तो आ नि बेगम।

कल्ले रहन दी आदत कोनी
कित्थे टुर गई तू मनमोहिनी
अख्हाँ दे विच हंजू भरके
तेंनुं याद करूँ मर मर के
सडिया रोटियां खावा नि बेगम
हुन तो पेके तो आ नि बेगम

फ्रिज - टीवी भी तेनु तकदे
बच्चे मम्मी मम्मी करदे
होमवर्क करदें ने डर डर कऐ
काली पीली जुराबें पैंदे
मिल गई बड़ी सजा नि बेगम
हुन तो पेके तो आ नि बेगम

बेलन खान नु दिल करदा है
गाली खान नु दिल करदा है
कट्ठे सोने नु दिल करदा है
दिल से दिल मिला नि बेगम
हुन तो पेके तो आन नि बेगम।







No comments: